उदास शायरी very sad shayari in hindi

बिछड़ने वाली शायरी breakup shayari


judai shayari


Kehte hai waqt se Pahle Aur 
Kismat ke bina kisi ko kuch 
Nhi Milta... 
Afsos unke Pass Waqt Nhi
Aur hamare pass kismat Nhi.. 

सच कहूँ तो सब किस्मत का ही तो खेल है
किस्मत अच्छी होती है तो सब कुछ मिल जाता हैं
वरना इंसान जिंदगी भर ठोकरे ही खाता है
ना मै उसका प्यार पा सका ना अपना फ्यूचर
ऐसा नही है कभी कोसिस नही की 
जब भी कोई काम किया दिल लगाकर किया
पर मुझे कभी कामयाबी नही मिली 
तो इसमें मेरा क्या कसूर... 

majburi breakup shayari


very sad boy status



 Majboori Me Jab Koi Juda Hota Hai
Jaruri Nhi Ki Vo Bewafa Hota hai
De kar Apki Ankhon Me Aasu 
Akele Me Vo Apse Bhi Jada rota hai

हा बस कुछ नाराज़गी है तुमसे भी 
खुद से भी... 
प्यार होते हुए भी हम इस रिश्ते को 
बचा ना पाए... 
कह तो रहे हैं अलविदा तुम्हे तुम्हारे 
हालात पर छोड़ कर... 
पर अब ना जाने कब किस मोड़ पर
तुम्हे यूँ किसी और के साथ देखकर जिस्म से
ये जान भी निकल जाए... 
तुमसे बिछड़ने के बाद तो मौत ही होगी 
मेरी आखिरी दवा.... 
खैर खुश रहो जहाँ भी रहो अब दिल से है
यही दुआ...... 

bura waqt shayari hindi


Yaade hi kafi hai ak Dusre Me
Jinda Rahne Ke Liye
Jaruri Toh Nhi Sab Pyar Karne 
Wale Sath Rahe Honge
Mere Khamoshi Ko Mere Bewafai
Mat Samajhna
Agar Mai Khamosh Hoon Toh Use 
Mere Bewafai Mat samjhna
Ho Sakta Hai Tere Hi Majboori Ke 
Aage Maine Apne Hooth Sile Honge.... 

मैंने मौत से जा कर कहाँ की तू
थोड़े दिन टल जा
मौत ने कहाँ तेरी किसी को जरूरत नही
तू चल मेरे साथ
मैंने कहाँ कोई है जो सिर्फ मेरे लिए ही 
जीता है
तो मौत ने हँस कर कहाँ इसलिए ही 
तू रोज पानी की जगह आंसू पीता है। 

majburi me judai shayari


kismat kharab shayari



Ye baat bhi bahut Ajmai Maine
Jinke Dil saaf Hote Hai unke 
Kismat kharab hote hai... 

वक़्त से थोड़ा सा वक़्त छीन कर लाऊंगा
वक़्त को उस वक़्त की कहानी सुनाऊगा
यूँ उलझाकर वक़्त को वक़्त की बातों में
मैं हर वक़्त की बात वक़्त से कह जाऊंगा। 

Zindagi Bina Ruke Safar kar 
Rahi Hai... 
Aur Hum khawahishe Lee kar
Bahi Khade Hai.... 

तारीख और वक़्त एक ही था 
उनसे मिलने और जुदा होने का
अब खुशी मनाए उसे पाने की 
या गम मनाये उसे खोने का... 
अरे वादा हम ही कर बैठे थे कि
नही खटखटाएंगे दरवाजा अब 
तेरे दिल के किसी कोने का
क्योकि अब फर्क ही कहां पड़ता है
तुझे हमारे होने ना होने का.... 




Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.